- Advertisement -
HomekavitaPoem On Virat kohali Cricketer

Poem On Virat kohali Cricketer

- Advertisement -

Table of Contents

Namskar doston,

Virat kohli ka Jivan parichay and poem |विराट का संक्षिप्त जीवन परिचय और कविता।

Virat kohali ka sankshipt parichay and poem

virat kohali par poem

वो कहते हैं ना, कि हम जहाँ से चलना शुरू करते है रास्ते वही से बन जाते है। बिल्कुल ऐसे ही हमारे विराट कोहली जी है
सचिन तेन्दुलकर और महेन्द्र सिंह धोनी के बाद क्रिकेट जगत में कोई धाक् जमाया तो वह नाम है,  विराट कोहली । आज अपने शानदार प्रदर्शन से बच्चे- बच्चे के दिल में अपना नाम अंकित कर दिया है। आज हर बच्चा धोनी और विराट बनना चाहता है।
विराट कोहली का जन्म 5 नवम्बर 1988 को दिल्ली में एक पंजाबी परिवार में हुआ ।इनके पिताजी का नाम प्रेम कोहली माताजी का नाम सरोज कोहली है। इनके पिताजी पेशे से क्रीमीनल  वकील थे। इनकी माताजी कुशल गृहिणी है। इनके एक बड़े भाई विकास कोहली और बड़ी बहन भावना कोहली है।

 तीन साल की उम्र से ही विराट कोहली अपने पिताजी  के साथ पार्क में क्रिकेट खेलने जाते थे। विराट खुद बल्लेबाजी करते थे और अपने पिताजी से गेन्दबाजी  करवाते थे।

आइए अब मैंने इसी संदर्भ में इनके जोश और जुनून को कविता का रूप दिया है आप सभी का प्यार और टिप्पणी अपेक्षित है।

Virat kohali ka sankshipt Jivan parichay and poem

 

                      कविता

तुम विजय हो,तुम अजय हो
तुम समय हो, तुम अभय हो
तुम विराट, तुम ललाट
तुम स्वदेश, तुम विदेश
तुम खिलाड़ी हो उच्चस्त
कर देते हो तुम परास्त
शेर सा दहाड़ते हो
रन बल्ले से बरसाते हो
शान तेरे खेल में है
आन तेरे मेल में है
चुमती रहेगी कदम
जीत करे सदा नमन
गगन चुम्बी गेन्द को जब
मारता है तू बल्ले  से
चौका छक्का पल में भरदे
प्रतिद्वंदी प्रास्त  छटसे
तू पुतर पंजाब दी है
तू भारत की शान भी है
धन्य पिता धन्य माता
धन्य धन्य नगर हुई
धन्य धरा धन्य गगन
माँ भारती प्रसन्न हुई।
जब धरा पर तू आया
कौन जाने तेरी माया
तू महारथी विराट
तू ही क्रिकेट का सम्राट
नमन तेरे शाहस को धैर्य तेरे दाद  का
डटे रहे फिर भी, सिर से गया साया बाप का

 

Virat kohali ka sankshipt Jivan parichay and poem
Virat kohali par poem
जय  माँ भारती।
दोस्तों आज का समय सुनहरा समय है। अपने बच्चों को अपने पसंद (रूचि ) का लक्ष्य चुनने दें,अन्यथा आपका बालक जमाने से पीछे  रह जाएगा।

               धन्यवाद पाठकों,

           रचना -कृष्णावती कुमारी

Virat kohli ka sankshipt Jivan  parichay and poem

Vo kahte hain na, ki ham jahan se chalna shuru karate hain raste vahin se ban jaate hain. Bilkul aise hi hamare Virat kohali ji hain.
Sachin Tendulkar aur mahendra singh dhoni ke baad kriket jagat men koi dhak jamaya to vah naam Virat kohali hai. Aaj apne shandar pradarshan se bachche ke dil men apna naam Ankit kar daiya hai. Har bachcha dhoni aur virat banana chahta hai.
Virat kohali ka janm 5 navambar 1988 ko delhi men ek Punjabi pariwar men huwa. Inke pitaji ka naam prem kohali mataji ka naam Saroj kohali hai. Inke pitaji peshe se kriminal vakil the. Inki mataji kushal grihini hai. Inke ek bade bhai vikas kohali aur badi bahan bhavna kohali hain.
Tin saal ki hin umar se Virat kohali apne pitaji ke sath park men criket khelne jate the. Pitaji bolling karate the. Virat kohali bating karate the.
Aaiye ab maine isi sandarbh men inke josh aur junun ko kavita ka rup diya hai. Aap sabhi ka pyar and comment  apekshit hai.
Virat kohali ka sankshipt Jivan parichay and poem
Virat kohali par poem

Poem in Hinglish

   POEM

 

Tum vijay ho, tum ajay ho
Tum samay ho, tum abhay ho
Tum virat tum lalat
Tum swadwsh tum videsh
Tum khiladi ho uchchast
Kar dete ho tum prast
Sher sa dahadte ho
Ran balle se barsate ho
Shan tere khel men hai
Aan tere mel men hai
Chumti rahegi kadam
Jit Kare Sada naman
Gagan chumbi gend ko jab
Marta hai tu bale se
Chauka chhakka pal men bharde
Prati dwandi prast jhat se
Tu putar panjab di hai.
Tu Bharat di shan bhi hai
Dhany pita dhany mata
Dhany Dhany nagar hui
Dhara Dhany dhany gagan
Man Bharti prasann huin.
Jab dhara par tu aaya
Kaun jaane teri maya
Tu maharathi virat
Tuhi criket ka samrat.
Naman tere sahas ko daad tere dhary ka.
Date rahe firbhi, jab, sir se gaya saya baap ka.
Jai man Bharti.
Doston, aaj ka samay sunhra samay hai. Apne bachho ko apne pasand (Riuchi) ka lakshay chunne den. Anytha aapka balak jamane se pichhe rah jayega.

               Dhanyvad pathakon,

          Rachana -Krishnawat kumari

और पढ़ने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें 

https://krishnaofficial.co.in/

To buy now click on the image 

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

604FansLike
2,458FollowersFollow
133,000SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related Blogs

- Advertisement -

1 COMMENT