- Advertisement -
HomeLatest PhoneGroup Captain Varun Singh Death ग्रुप कैप्टन वरुण का डेथ कैसे हुआ

Group Captain Varun Singh Death ग्रुप कैप्टन वरुण का डेथ कैसे हुआ

- Advertisement -
Google News Follow

Group Captain Varun Singh Death|वरुण सिंह डेथ,हेलिकौप्टर हादसा , कैप्टन वरुण सिंह पर कविता

Group Captain Varun Singh Death- सात दिन तक जिंदगी और मौत के बीच जूझते हुवे आखिरकार जवाज़ अरुण सिंह दुनिया को अलविदा कह गए |

आज दिनांक 15 दिसम्बर2021 को CDS चौपर क्रैश में घायल कैप्टन वरुण सिंह जिंदगी की जंग हार गए |CDS जनरल विपिन रावत के साथ हेलिकॉप्टर हादसे में घायल हुवे कैप्टन वरुण सिंह का बुधवार को निधन हो गया |भारतीय वायु सेना ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी |

वायुसेना ने कहा, कि ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ने गंभीर चोटों कि वजह से दम तोड़ दिया |तमिलनाडू के कुन्नूर में 8दिसंबर को हेलिकॉप्टर हादसे में घायल होने के बाद पहले उन्हें वेलिंगटन के आर्मी अस्पताल में भर्ती किया गया था |बाद में उनकी गंभीर हालत को देखते हुवे उन्हें बेंगलुरु शिफ्ट किया गया था |

वे पिछले 7दिन से जिंदगी कि जंग लड़ रहे थे| वहाँ उनके पिता के पी सिंह भी भोपाल से पहूंच गए थे | बेटे की हालत देख पिता ने कहा:मुझे यकीन नहीं है | सारा देश उनके लिए दुवा कर रहा था कि वे जरूर स्वस्थ हो जाएंगे |लेकिन बिना उसके मर्जी के एक पत्ता भी हिल सकता नहीं |प्रभु को यहीं मंजूर था |

कप्तान वरुण गैलेंट्री ऑवर्ड वीनर थे 

गैलेन्ट्री ऑवर्ड वीनर कप्तान वरुण सिंह सैन्य परिवार से ही तालुक रखते थे |उत्तर प्रदेश के देवरिया जनपद ,कंहौली गाँव के निवासी वरुण सिंह का परिवार तीनों सेनाओं से जुड़ा है -जल ,थल और नभ |ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह वायु सेना में ,पिता कर्नल के.पी सिंह थल सेना से रिटायर्ड ,भाई तनुज सिंह इंडियन नेवी अधिकारी हैं |

वरुण का परिवार इन दिनों भोपाल में रहता है |आपको बता दें कि इसी वर्ष स्वतंत्रता दिवस पर वरुण सिंह को राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने शौर्य चक्र से सम्मानित किया था |उन्हें यह ऑवर्ड फ्लाइंग कंट्रोल सिस्टम खराब होने के बाद भी 10हज़ार फिट की ऊंचाई से तेजस विमान की सफलता पूर्वक लैंडिंग कराने पर दिया था |

वरुण ने आपदा के समय अपने धैर्य को बरकरार रखते हुवे और आबादी से दूर ले जाकर विमान की सफल लैंडिंग कराई थी | उनके इस  उत्कृष्ट काम से उनको 15 अगस्त 2021 को वीरता पदक ,शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया  था|लेकिन न जाने कौन सी खिड़की खुली थी ,सैयां निकस गए …..|

एक आखिरी आस थी कि जबाज़ हमें इतनी जल्दी नहीं छोड़ेगा |परंतु जिंदगी से जंग हार गए कप्तान वरुण सिंह | आखिर उस समय क्या हुआ ? जिंदगी के जंग में सफल हो जाते तो, सबकुछ सामने आ  जा जाता | क्यों? कैसे ?का जवाब मिल जाता !

बेस्ट पायलट अवॉर्ड से सम्मानित थे कैप्टन वरुण   

अरुण ग्रुप कैप्टन अभिनंदन वर्तमान के बैचमेट है |अभिनंदन 27फरवरी 2019 को भारत की सीमा में घुसने वाले पाकिस्तानी विमानों को खदेड़ा था |उन्होंने इस दौरान पुराने MIG-21 से अमेरिकन मेड एफ़-16 मार गिराया था |वरुण बेस्ट पायलट ऑवार्ड से भी सम्मानित हुवे थे |

वरुण सिंह का संक्षिप्त जीवन परिचय व शिक्षा | Biography Of Captain Varun Singh
नाम वरुण सिंह
पिता का नाम कृष्ण प्रताप सिंह
माता का नाम उमा सिंह
पत्नी का नाम गीतांजली
संतान बेटा रिदम ,बेटी आराध्या
पैतृक गाँव UP,देवरियाँ ,ग्राम -कन्हौली
शिक्षा 12वीं चंडी मंदिर स्कूल
एयर फोर्स जॉइनिंग 2004 में चयनित हुवे
राषट्रीयता भारतीय
उम्र 42 साल

 

अब कुछ पंक्तियाँ कप्तान वरुण के नाम लिख रहीं हूँ जो कि निम्नवत है |

वरुण सिंह पर कविता

 तेरी क़ाबिलियत की क्या तारीफ़ करूँ, शब्द भी कम पड़ जाएंगे |

तेरी हिम्मत की क्या बात करूँ ,सुन दुश्मन भी थर्राएंगे |

तू  वीर था, तू जबाज़ था, तू भारत माँ का सपूत था |

तू आन बान शान था, मेरे देश का तू  गुरूर था |

अभी देश को तेरी जरूरत थी ,इतनी भी क्या तुझे जल्दी थी |

कुछ वक्त और जिया होता, दाँत दुश्मन के खट्टे किया होता |

तेरी शौर्य गाथा गाएँगे, बच्चों को अपने सुनाएँगे |

तुझ जैसा  वीर बनाएँगे, जल थल सेना में जाएंगे|

तन मन धन अर्पण देश की खातिर, पल भर में तज जाएंगे|

हम अपने बच्चों को, तुझ सा बनायेंगे , बच्चों को तुझसा बनाएँगे ,बच्चों को तुझसा बनाएँगे
जय हिन्द ,जय भारत 

रचना -कृष्णावाती कुमारी

  यह भी पढ़ें :

  1. CDS बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर क्रैश में निधन
  2. अभिनव चौधरी बायोग्राफ़ि
  3. सुशांत सिंह राजपूत ने चाँद पर जमीन खरीदा था 
  4. Biography Of Guru Shankaracharya
- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

604FansLike
2,458FollowersFollow
133,000SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related Blogs

- Advertisement -
Whatsapp Icon