- Advertisement -
HomeBiographyBiography of Yogi Aaditynaath

Biography of Yogi Aaditynaath

- Advertisement -

योगी आदित्य नाथ की जीवनी  | Biography of Yogi Aaditynath

Biography of Yogi Aaditynaath-वो कहते हैं न कि,“होनहार वीरवान के होत चिकने पात” जिस दिन पिचूर गाँव, यमकेश्वर तहसील पौढ़ी गढ़वाल के राजपूत घराने में एक नन्हाँ सा  बालक का जन्म हुआ|  परिवार के  किसी  भी सदस्य को यह तनिक भी भान नहीं होगा ,कि आगे चलकर यहीं नन्हाँ  सा बालक उत्तर प्रदेश का मुख्य मंत्री बनेगा |

हिन्दू समाज  मेँ ऐसा माना जाता है कि,जन्म के साथ ही इंसान अपना कर्म क्षेत्र भी लेकर आता है | अपनी शिक्षा पूरी कर 1993 में योगी जी गणित मेँ एमएससी की पढ़ाई के दौरान गोरखनाथ पर शोध करने हेतु   इनका आगमन उत्तर प्रदेश के गोरखपुर मेँ  हुआ |जहां उनकी मुलाक़ात अवैध नाथ जी से हुई | ऐसा माना जाता है कि महंत अवैधनाथ नाथ जी योगी जी के पूर्व परिचित  थे |

कुछ समय योगी जी महंत जी के साथ बिताए | उसके बाद 1994 मेँ योगी जी ने  महंत जी से दीक्षा प्राप्त कर सन्यासी बन गए | तभी से इनका नाम अजय बिष्ट से योगी आदित्य नाथ पड़ा | इसके बाद इनका जीवन गोरखनाथ मंदिर मेँ व्यतित होने लगा |महंत अवैध नाथ जी अपने जीवन काल मेँ ही योगी जी को  अपना उतराधिकारी घोषित कर दिये |

योगी जी का राजनैतिक जीवन

सन 1998 मेँ योगीजी गोरखपुर  लोक सभा सीट से पहली बार जीत हासिल कर  भारतीय जनता पार्टी के सांसद बने  | उस समय उनकी आयु मात्र 26 साल कि थी |12रहवी लोक सभा चुनाव मेँ  सबसे कम उम्र के सांसद बने | इस क्रम मेँ ये लगातार 5 बार गोरखपुर क्षेत्र  का प्रतिनिधित्व  कर भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़े और  सांसद का सीट अपने नाम दर्ज किए |

भारी मतों से इन्होंने जीत हासिल करने का आंकड़ा लगातार  जारी रखा | तत्कालीन प्रधानमंत्री PM मोदी जी के कार्य काल में मुख्यमंत्री भी बन गए गोरखपुर की जनता  (हिन्दू मुस्लिम) इन्हें बहुत प्यार और सम्मान देती है | इनके कार्य प्रणाली की बात करूँ तो इनके दरबार से कोई निराश होकर नहीं जाता हैं | जिस तरह लक्ष्मण जी  के लिए हनुमान जी संकट मोचन बने, उसी तरह योगी जी जनता के संकट मोचन हैं |

हिन्दू युवा वाहिनी के संस्थापक 

अप्रैल 2002 मेँ इन्होंने हिन्दू युवा वाहिनी बनाई |  छुवा छूत से दूर हिन्दू वर्ग के सभी जाती को एक सूत्र में बांधने की कला  कोई इनसे सीखे | यहाँ तक की मुस्लिम वर्ग से  भी इनको बहुत प्यार है |गोरखपुर मेँ जितना प्यार हिन्दू करते हैं तो ,कहीं उनसे ज्यादे प्यार उन्हें मुस्लिम करते हैं |

हिन्दू युवा वाहिनी के संस्थापक और नाथ संप्रदाय प्रमुख पाँच बार सांसद चुने जाने के बाद अंतत: : इन्हें उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री पद के लिए विधायक दल का नेता चुन लिया गया | आप को ज्ञात हो की 2005 मेँ मऊ मेँ  हुवे दंगे का इन पर आरोप लगा |इतना ही नहीं 2007 में हुवे गोरखपुर के दंगे में इन्हें गिरफ्तार कर और इन्हें  तत्कालीन सरकार द्वारा  नज़र बंद भी किया गया था |

शिक्षा

टिहरी हाइ स्कूल -1977 से 1987 मेँ दसवी कक्षा ( 10वी ) पास किए|

इंटर –सन 1989 मेँ  श्री भरत मंदिर इंटर  कालेज से पास किया | 1990 में ग्रैजुएशन करते समय ही  अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ गए |

बीएससी -सन 1992 मेँ  श्रीनगर के हेमवती नन्दन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्द्यालय से   बीएससी परीक्षा पास की |

जन्म -5 जून 1972

वास्तविक नाम- श्री  अजय सिंह बिष्ट |

पिता का नाम –  स्वर्गीय आनंद सिंह बिष्ट |

माता –  श्रीमति सावित्री देवी |

भाई — श्री  महेंद्र सिंह बिष्ट|

बहन — श्रीमति शशि सिंह बिष्ट|

धन्यवाद साथियों ,

और पढ़ें :

  1. Chand par Jamin kharid chuke the Sushant Singh Rajpoot
  2. Biography of Niraj Chopada

https://krishnaofficial.co.in/

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

604FansLike
2,458FollowersFollow
133,000SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related Blogs

- Advertisement -