- Advertisement -
HomeBiographyWho is Neeraj Chopada Jaat

Who is Neeraj Chopada Jaat

- Advertisement -

Who is Neeraj Chopada Jaat|नीरज चोपड़ा की जीवनी 

आज जो खिलाड़ी 2021 में टोकियो ओलंपिक से सोने का मेडल लेकर आया हैं,आखिर वह खिलाड़ी कौन है?Who is Neeraj चोपड़ा?

आइये जानते हैं की चमचमाता सोने का मेडल जीतने वाला देश का धड़कन खिलाड़ी नीरज चोपड़ा कौन हैं ?

मुख्य आकर्षण –

  • नीरज चोपड़ा का रहन सहन
  • बचपन और पढ़ाई
  • कितने मेडल अपने नाम किया

नीरज चोपड़ा की जीवनी –

इस जीत के लिए भारत 121 साल से सपने देख रहा था जिसे जेबलीन में अपने दम पर गोल्ड मेडल जीत कर नीरज ने इतिहास रच दिया |टोकियो ओलंपिक में पहली बार गोल्ड मेडल जीतकर नीरज ने इतिहास के पन्नों पर सुनहरे अक्षरों में अपना नाम अंकित कर लिया |ओलंपिक समापन के एक दिन पहले अपने देश भारत को स्वर्ण पदक दिला दिया |

नीरज चोपड़ा का बचपन और पढ़ाई –

इनका जन्म हरियाणा के जनपद पानीपत के एक छोटे से गाँव खँद्रा में एक किसान के घर में हुआ | इनका जन्म 24 दिसंबर 1997 को हुआ |इन्होंनें अपनी प्रारम्भिक पढ़ाई पानीपत से ही की |इसके बाद यहाँ से अपनी प्रारम्भिक शिक्षा पूरी करने के बाद चंडीगढ़ से BBA की डिग्री हसील की |नीरज बचपन में बहुत मोटे थे जिसकी वजह से स्टेडियम  जाना शुरू कर दिया | इनके मोटापा को देखकर बच्चे इनका मज़ाक उड़ाते थे |इसी लिए इनके चाचाजी 13साल की उम्र से स्टेडियम में दौड़ लगवाना शुरू करवा दिये |यहाँ जब इन्हों ने दूसरे खिलाड़ियों को भाला फेकते देखा तो इनका मन भाला की ओर लागने  लगा| और ये तैयारी में जुट गए |जिसका परिणाम आज देश  को गोल्ड मेडल के रूप में हासिल हुआ |

आर्मी के नायाब सूबेदार 2016 में बने –

आर्मी में डिऊटी के साथ साथ जेबलिन अभ्यास जारी रखा और नेशनल स्तर पर कई मेडल अपने नाम किया|2016 में पोलैंड में हुवे आईएएएफ वर्ल्ड यू -20 चैंपियन शिप में 86.48मीटर दूर भला फेंक कर स्वर्ण पदक जीता |इससे खुश होकर इन्हें राजपूताना रेजीमेंट में बतौर जूनियर कमीशंड ऑफिसर के तौर पर नायाब सूबेदार के पद पर नियुक्त कर दिया गया |आर्मी में जॉब मिलने से नीरज बहुत खुश थे |इसी लिए तो एक इंटरव्यू  में कहा था की मेरे परिवार में किसी को सरकारी नौकरी नहीं मिली थी |यह हमारे परिवार के लिए बहुत खुशी की बात है |अब मैं अपने परिवार के लिए आर्थिक मदद गार हूँ |

नीरज चोपड़ा का रेकॉर्ड –

वर्ष 2018 में इन्डोनेशिया में हुवे एशियन गेम में नीरज ने 88.06 मीटर का थ्रो करके गोल्ड मेडल प्राप्त किया था |नीरज भारत के पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीता है |एसियान गेम्स के इतिहास में भारत  को अब तक जेबलिन थ्रो में दो ही गोल्ड मेडल मिला है |इनसे पहले 1982 में गुरु तेज सिंह ने ब्रौंज मेडल जीता था |2018 में कॉमन वेल्थ गेम्स और एशियन गेम्स में शानदार प्रदर्शन करते समय नीरज के कंधे में चोट आ गई थी |जिसके कारण वे काफी समय तक खेल से दूर रहें |इसके बाद कोरोना के कारण कई इवेंट रद्द हो गया |जिस कारण से उनका खेल काफी प्रभावित हुआ |इसके बावजूद जोरदार प्रदर्शन करते हुवे इसी साल मार्च में पटियाला में आयोजित इडियन ग्रांड प्रिक्स में नीरज ने आपना ही रेकॉर्ड तोड़ते हुवे 88,07 मीटर भाला फेंक कर नया रेकॉर्ड बनाया |

अब एक नजर इनके मेडल पर डालते हैं –

  • टोकियो ओलंपिक 2021- गोल्ड मेडल (87.58mitar)
  • एशियन गेम्स 2018-  गोल्ड मेडल
  • कॉमनवेल्थ गेम्स – 2018 गोल्ड मेडल
  • एशियन एथेलेटिक्स चैंपियन 2017-गोल्ड मेडल
  • वर्ड यू -20 एथलेटिक्ट्स चैंपियन शिप 2016-गोल्ड मेडल
  • साउथ एशियन गेम्स 2016-गोल्ड मेडल
  • एशियन जूनियर चंपीयनशिप 2016-सिल्वर मेडल

यह भी पढ़े-

दीपिका कुमारी बायोफीग्राफी

धोनी पर कविता

सुशांत सिंह ने चाँद पर जमीन खरीदा था

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

604FansLike
2,458FollowersFollow
133,000SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related Blogs

- Advertisement -