- Advertisement -
HomeकविताNav Varsh Ki Shubh Kamnayein

Nav Varsh Ki Shubh Kamnayein

- Advertisement -
Google News Follow

Nav Varsh Ki Shubh Kamnayein | नव वर्ष की शुभ कामनाएँ

Nav Varsh Ki Shubh Kamnayein- बीते हुए साल को विदा करते हुये ,नए साल का स्वागत करना है | हे!प्रभु कभी नहीं  2020-21 जैसे जीवन में नव वर्ष का आगमन हो| कितने अपने छूटे, कितने अपने पराए हो गए |हर किसी ने अपना रंग दिखया |अपने, अपने ना रहे |गैरों ने रिश्ता निभाया |

जिसको अपना समझा हमनें ,उसी ने गंभीर घाव दिया |जिनके कंधे पर सिर रख कर रोना था उन्होंने ही  आँसू दिया | जिनको समझा मशीहा मैंने,उन्होंने कलेजे को चीर डाला |करके छली भरोसे को, हमें अपना दुश्मन बताया |जिसे बेकार समझा था, उन्हीं ने जिंदगी का सही मायने समझाया है |टूटकर बिखरने का नहीं ,निखरने का मार्ग दिखाया |

किसी को समय ने खुद सिखाया, किसी को परायों ने संभाला, सहेजा |असली दुनियाँ से रु-ब-रु कराया | बड़ा दर्द दिये बीते साल |कितने आनाथ हुवे ,कितनों की मांग सुनी हो गई |कितनों की गोद सुनी हो गयी, तो कितनों का, घर का घर साफ हो गया | परंतु सभी दर्द को भुला कर नूतन वर्ष का अभिनंदन करना है |

अब नए साल के साथ नव वर्ष का स्वागत करते हुए कुछ मन भावन कुछ कुछ विपरीत कविताओं का आनंद लें| बात-चीत में पता चला की यह नया साल पूरे विश्व को एक साथ एक सूत्र में बाँधकर खुशियों में डूबो देता है | जिसे निम्नवत मैंने अपने भाव को व्यक्त किया है| त्रुटियों को नजर अंदाज करेंगे |नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाओं के साथ दिल से स्वीकार करते हुये पढ़ें| मुझे बहुत खुशी होगी |आप सभी का प्यार और आशीर्वाद अपेक्षित है….| 

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें 

1.कविता

नव वर्ष के साथ-साथ, बदल जाता है नया साल |

हम वहीं  के वहीं रह जाते है,भले हीं आए नूतन साल ||

नहीं कुछ सोच समझ पाते ,नहीं कर पाते विचार|

 धीमें पाँव वक्त फिसलता,  आगे हैं इसके लाचार ||

पर,हर बार दे जाता संदेश , निशान उम्र का छोड़ जाता है |

फिर भी, मन कितना नादान, पल भर में गुम हो जाता है ||

इस बार आओ कुछ अलग करें ,सबके होंठों पर मुस्कान भरें |

दुख दर्द सभी के बांटें हम, जो बेसहारा उसका सहारा बनें |

नव वर्ष में हर इंसान मनाये, खुशियां मस्त मगन होके |

थिरके पग, बाजे मृदंग , ताता थइया थइया बोलके ||

कुछ काम करो ऐसा जग में, जिंदगी का वक्त पल-पल घटता|

 बस यादें जहाँ में रह जाती, गुजरा पल लौट कभी न आता ||

रचना -कृष्णावाती कुमारी 

कुछ लोगों के विचार आइये निम्नवत कविता में जानते हैं कि नए साल के विषय में उनका क्या मत है ,|वे इसे मनाते हैं या अस्वीकार करते है …..

2. कविता 

 नहीं मानता नव वर्ष को , नहीं जानता ये त्यौहार    |

जिसे पुरखों ने ना माना कभी , वैसा ही  हमारा है व्यवहार |

जहां ठिठुरन धरा पर अधिक सतावे, आसमान में कोहरा छावे|

कोई-घर से बाहर निकाल ना पावे, जहां ठंढ हवा के पहरा धावे |

 

प्रकृति की बगिया  सुनी हैं , हर कोई रज़ाई में ,दुबका है |

रंग बेरंग उमंग नहीं , बचवा गोदिया में सुबका है |

कुछ मास तनिक इंतजार करो ,अपने हियारा में विचार करो |

नए साल में नूतन मिले कछु , बस ठहरों जरा इंतजार करो |

 

कछु उल्लास नहीं मन में है ,आई अभी यहाँ बाहर नहीं |

ये ढूंध कुहासा छटने दो ,ये अपना नूतन  साल नहीं|

फागुन का रंग बिखरने दो, प्रकृति को दुलहन बनने दो |

जब महुवा से  रस टपकेगा ,घर घर खुशियों को सजने दो |

 

 है रीति यहाँ की  सदा-सदा,नव वर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा|

अनपूर्णा माई घर घर में ,वास करेंगी सदा सदा |

फिर क्या , भूखा कोई नर ना रहे, घर-घर में सबके समृद्धि आए |

हे प्रभु आस यही है मेरी ,विपत्ति कभी पास नहीं आए |

पुनः नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएँ|

धन्यवाद,पाठकों

रचना -कृष्णावाती कुमारी

 

यह भी पढ़ें :

1.History of new year

2.नव वर्ष पर कविता

3. नया साल पर कविता

4. poem on happy new year

 

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

604FansLike
2,458FollowersFollow
133,000SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related Blogs

- Advertisement -
Whatsapp Icon