- Advertisement -
Homepoemगरीबी में गर्भवती स्त्री का संघर्ष कविता

गरीबी में गर्भवती स्त्री का संघर्ष कविता

- Advertisement -

गरीबी में गर्भवती स्त्री का संघर्ष पर कविता।

Garibi men garbhavati stri ka sangharsh par poem.

कितना दुखद है, आजादी के इतने सालों बाद भी
सामाज में हमें ऐसे दृश्य देखने पड़ते  है।

सरकार कोई भी आए जाए अपनी खोखली दावों और ताम झाम को एक पल में मिट्टी में मिला देती है।

पेट भरे चकाचौध ज़िन्दगी और भूखी जिन्दगी में कितना अन्तर होता है। वो अपना पेट पालने के लिए गर्भ के आखिरी महीने में भी रईशो के बारात की सजावटी लाईट को पेट की ख़ातिर अपने सिर पर रखकर रोशनी दिखाते हुए चलते जाती है।


यदि आप सक्षम है और ऐसा दृश्य आपके सामने से गुज़र रहा हो तो, उसे एक दिन की मजदूरी निकाल कर दे दें। उसे कहें, कि तुम आराम करो आज की रोटी के पैसे मैं दूँगा।
Garibi men garbhawati stri ka sangharsh par poem.

आइए अब मैंने अपने शब्दों में इन सारी परिस्थितियों को कविता का रूप दिया है। आप सभी का प्यार आशीर्वाद एवं  टिप्पणी  अपेक्षित है।

                          कविता

पता नहीं, देख इसे आपका सर झुका की नहीं,
पता नहीं, देख इसे आपकी आत्मा कराही की नहीं।
पर मेरा सिर झुका, आत्मा कराही,
मेरा दिल रोया, सारी रात बेचैन रही।

फिल्मी दुनिया पर ना जायें,
गर्भावस्था में भी वहां, फोटो सेशन चलता है।
यहां तो  भई दो जून की रोटी का
जुगाड़  करना पड़ता  है।

जग जाहीर महिला जापानी
गर्भवती जब चलती है।
राह गुजरते राह तजे राही,
सम्मान में  टोपी उतरती है।

कौन जानता यह बच्चा,
कल का साहित्यकार बने।
राजनेता मयूजिशियन ऐक्टर
और नागरिक जिम्मेदार बने।

आओ तन मन धन अर्पण कर
आगे बढ़ कर लें  संकल्प।
निर्माण करें हम नये भारत का
और नहीं कोई विकल्प।

हम भी कदम से कदम मिलाकर
नयी राह बनायेंगे।
जहाँ दिखे लाचार नर नारी,
सबको सबल बनायेंगे।

गांव गांव हम नगर नगर तक,
अलख यही जगायेंगें।
सेवा करें गर्भवती नारी की,
जन जन में भाव जगायेंगे।

कौन जाने गौतम गुरुनानक
कौन जाने गांधी सुभाष
कौन जाने भगत  विस्मिल
कौन जाने वो रचेगा इतिहास।

अन्त में दोस्तों आप सभी से यहीं निवेदन है कि आप सभी जहाँ भी ऐसा दृश्य देखे मदद के लिए आगे आए।
और  अपने समय में से थोड़ा समय निकालकर योगदान दें। यह पुण्य का कार्य आपके परिवार के लिए बहुत ही कल्याणकारी होगा।

धन्यवाद पाठकों
रचना -कृष्णावती कुमारी

IN HiNGLISH

Garibi par garbhavti stri ka sangharsh par kavita.

Kinta dukhad hai, aajadi ke itne salon bad bhi samaj men hamen aise drishy dekhne padte hai. Yah drishy kisi bhi sabhy samaj ke chehre ka nakab utar deti hai.

Sarkar koi bhi aaye jaye Apni khokhali dawon avn- taam jaam ko ek pal men Mitti men Mila deti hai.

Pet bhare chakachaudh  jindagi men aur bhukhi jindagi men kitna antar hota hai. Oo apna pet palne ke liye garbh ke aakhiri mahine men bhi raishon ke barat ki sajawati light ko pet ki khatir apne seer par rakh Kar roshni dikhate huwe chalte jati hai.

garbhavti stri ka sangharsh

Yadi aap saksham hain aur aapke samne se aisa drishy gujar rha ho, to use ek din ki majaduri nikal kar de den. Use kahen ki tum aaram karo  aaj ki roti ke paise mai dunga.

Aaiye ab mainen apne shabdon men in sari parishthitiyon ko kavita ka rup diya hai. Aap sabhi ka pyar aashirvad avn tippani apekshit hai.

Garbhavati stri ka sangharsh.

Poem

Pata nhin, dekh ise aapka seer jhuka ki nhin
Pata nahin dekh ise aapki aatma karahi ki nahin.
Par mera sir jhuka, aatma karahi.
Mera dil roya, saari rat bechain rahi.

Filmi duniya par na jayen
Garbhavstha men bhi wahan,
Foto sesan Charla hai.
Yahan to bhai do Jun ki roti ka
jugad  karna padta hai.

Jag jahir mahila Japani
Garbhavti jab chalti hai
Rah gujarte rah taje rahi
Samman men topi utarti hai.

Kaun janta yah bachcha
Kal ka sahitykaar bane.
Rajneta musician actor
Uar nagrik jimmedar bane.

Aao tan man dhan urparn kar
Aage badhakar len sankalp.
Nirmaan karen ham naye Bharat ka
Aur nhi koi vikalp .

Ham bhi kadam se kadam milakar
Nai rah banayenge.
Jahan dikhe lachar nar naari
Sabko sabal banayenge.

Gaon gaon ham nagar nagar tak
Alakh yahi jagayenge.
Sewa Karen garbhavati Nari ki
Jan Jan men bhav jagayenge.

Kaun jane gautam gurunanak
Kaun jane Gandhi  subhas.
Kaun Jane bhagat bishmil
Kaun jaane oo rachega itihas.

Ant me doston aap sabhi se yahi nivedan hai ki, aap sabhi jahan bhi aisa drishy denkhe ,madad ke liye aage aayen. Yah madad aapke priwar ke liye bahut kalyankari hoga.

Dhanyavad pathakon,
Rachna -Krishnawati kumari

 

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

604FansLike
2,458FollowersFollow
133,000SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related Blogs

- Advertisement -

1 COMMENT