- Advertisement -
HomePauranik katha Hindi PoemPoem On Mitrata mein tyag sudama ki

Poem On Mitrata mein tyag sudama ki

- Advertisement -

 Poem On  Mitrata mein Tyag Sudama Ki . कविता  मित्रता में त्याग सुदामा की ।


अधिकतर हम सभी यहीं जानते है कि, सुदामजी गुरुमाता के द्वारा दिए गए चन्ने की पोटली कृष्ण जी से चुरा कर खा गए। परन्तु सच तो यह है कि, सुदामा जी जन्म से ही ब्रह्म ग्यानी थे।
चन्ने की पोटली हाथ में आते ही चन्ने का राज उन्हें भान ( ग्यात) हो गया। भला अपने प्रभु, अपने रोम रोम में बसने वाले श्रीकृष्ण के साथ कैसे अनर्थ करते!गाँव के सभागार में भागवत कथा चल रही थी। गुरूजी  कृष्ण और सुदामा की मित्रता के चरित्र पर प्रकाश डाल रहे थे। उसी बीच उन्होंने एक ऐसा सच का खुलासा किया कि जो सुनकर जन सभा  स्तभ रह गयी।
Krishna aur Sudama ki mitrta men tyag Sudama ki.
आइए इस चन्ने की पोटली का राज इस कविता के माध्यम से जानते हैं। मेरी इस छोटी सी कोशिश को आप सभी का प्यार अपेक्षित है।

                     कविता

Brahamani

 

जीवन यापन भिक्षाटन से,
निर्धन ब्राह्मणी करतीं थीं।
पानी पीकर दिवस गुजारा,
पांच दिन से भूखी थी।
गाँव  गाँव में दूर दूर तक,
घूम घूम फिरी आईं।
किसी भी गाँव में अन्न का दाना
उन्हें नहीं मिल पाई।
छट्ठे दिन जब घर से निकलीं,
रुकीं एक गाँव में जाके।
पाकर चन्ना मुट्ठी भर,
खुशी से झुमन लागे ।
चलते चलते थक गई जब,
हड्डियों में दम नहीं लागे।
हो गई शाम तो चन्ने बाँधकर
मुन्डेर पर टांगन लागे।
सुबह खाउंगी भोग लगाकर,
वासुदेव मेरे प्यारे,
जपते नाम वासुदेव का,
सो गई, कुटिया में किनारे।
आधी रात बीती जब चोर ,
चोरी करने आये।
चारो ओर ढूंढ भये,
फिर भी कछु हाथ न आए।
एक चोर की नजर पड़ी जब
टंगी हुई पोटली पर ।
होगा सोना पक्का इसी में,
झपट पड़ा पोटली पर।
जगी ब्राह्मणी शोर मचाई,
डरकर भागे चोर।
संदीपन मुनि आश्रम छुप गये,
कहीं  ना होवे भोर।
आहट पाकर गुरुमाता ,
झटपट कदम बढा़ईं।
भागे चोर सब प्राण बचाकर,
पोटली दिये गिराई।
इधर ब्राह्मणी भूख से ब्याकूल,
तड़प तड़प कर ढूँढ रही।
दिया श्राप जो खायेगा,
संपूर्ण जीवन दरिद्र रही।
गुरूकुल में दोउ मित्र,कृष्ण-सुदामा,
करत रहें पढाई,
गुरुमाता ने वहीं पोटली,
सुदामा को दीं पकड़ाई।
ब्रह्मग्यानी जन्मजात सुदामा,
पोटली ज्यों हाथ में पकड़ा।
शापित है  यह चन्ना,
स्पन्दन दिल का बढ़ा।
त्रिभुवन को  इसे ना दूंगा,
खुद ही मैं खा जाउंगा।
बच जायेगी श्रृष्टि सारी,
भले मैं, दरिद्र रह जाउंगा।
कहीं न देखी ऐसी मिताई,
सारा जग घूम आया।
एक ने लोक लुटाई,
दूजा ने जीवन लुटाया

Krishna aur Sudama ki mitrta men tyag Sudama ki.

श्रृष्टि एवं मित्र की ख़ातिर पुरी ज़िन्दगी दरिद्रता में गुजारने वाला सुदामा श्राप को स्वयम अपने ग्रहण कर लिया।परन्तु  मित्र कृष्ण को एक भी चने का दाना नहीं दिया।ऐसी होती है मित्रता।
आप सभी से यहीं  निवेदन है कि मित्रता करें तो सुदामा जैसी। कभी अपने मित्र को धोखा न दें।

                            धन्यवाद पाठकों

                            रचना -कृष्णावती कुमारी

 Poem in hinglish –

Krishna aur Sudama ki mitrta men tyag Sudama ki.

Gaon ke  sabhagar men bhagawat katha chal rahi thi. Guruji krishna aur sudama ki mitrta par prakash dal rahe the. Usi bich unhonne ek aise sach ka khulasha kiya ki jo  sunkarar jansabha stabdh rah gai.
Adhiktar ham sabhi yahi jante hain ki sudamaji gurumata dwara diye gaye channe ki potali krishnaji se churakar kha Gaye. Prantu sach to yah hai ki sudamaji janm se hi braham gyani the. Channe ki potali hath men aate hi channe ka raj unhen bhan ho gaya.bhala apne prabhu, apne rom rom men basne wale shrikrisha  ke sath kaise anarth karate!

mitra Sudama ki Krishna ke prati tyag

Aaiye ab ham is channe ki potali ka raj ek chhoti si kavita ke madhym se jante hain. Meri is chhoti si koshish ko aap sabhi ka pyar apekshit hai.

 Poem

Jivan yapan nirdhan brahamani
Bhikshatan se karti thi.
Pani pikar Jivan gujara
Panch din se bhukhi thi.
Gaon gaon men dur dur tak
Ghum ghum firi aaee.
Kisi bhi gaon men ann ka dana
Use nhi mil paaee.
Chhatthe din jab ghar se nikli
Ruki ek gaon men Jake.
Pakar Channa mutthi bhar
Khushi se jhuman lage.
Chalte chalte thak gai jab
Haddiyon men dam nhin lage.
Ho gai sham to channe bhadhkar
Munder par  tangan lage.
Subah khaungi bhog lagakar
Vasudew mere pyare.
Japte naam vasudev ka
So gai kutiya men kinare.
Aadhi raat biti jab chor
Chori karne aaya.
Charon oor dhudh bhaye
Firbhi kachhu hath na aaya.
Jagi brahamani shor machai
Dar kar bhage chor.
Sandeepan muni ashram chhup gaye
Kahin na howe bhor.
Aahat pakar gurumata
jhatpat  kadam badhain.
Bhage chor sab pran bachakar
Potli diye vahi girai.
Idhar brahamani bhukh se vyakul
Tadap tadap kar dhudh rahi.
Diya shrap jo khayega.
Sampurn jeevan daridr rahi.
Guru kul men dou mitr krishna Sudama
Karte rahen padhai
Gurumata ne wahi potali
Sudama ko din pakdaee.
Brahm gyani janm jaat Sudama
Potali hath men pakada.
Shrapit hai ye channa
Spandan dil ka badha.
Tribhuwan ko ise nhin dunga
Khud hi Main khaunga.
Bach jayegi sari shrithi
Bhale main daridr rahunga.
Kahin na dekhi aisi mitai
Sara jag ghum aaya.
Ek ne lok lutaee
Duja ne Jivan lutaya.
Shrishti avam mitr ki khatir puri jindagi daridrta men gujarne wala Sudama shrap ko swayam garahan kar Liya. Prantu mitr krishna ko channe ka ek bhi dana nhin Diya. Aisi hoti hai mitrta.
Aap sabhi se nivedan hai ki mitrta Karen to Sudama jaise.

Dhanyvad pathakon

Rachna-Krishnawati Kumari

https://krishnaofficial.co.in/

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

604FansLike
2,458FollowersFollow
133,000SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related Blogs

- Advertisement -

1 COMMENT