- Advertisement -
HomeFestivalMahavir Jayanti Kya Hai महावीर जयंती क्यों मनाई जाती है 

Mahavir Jayanti Kya Hai महावीर जयंती क्यों मनाई जाती है 

Mahavir Jayanti Kya Hai | महावीर जयंती क्यों मनाई जाती है 

Mahavir Jayanti Kya Hai- कहा जाता है कि भगवान महावीर करीब 599 ईशा पूर्व बिहार के कुंडलपुर के राज घराने में जन्म लिए थे |इनका बचपन का नाम वर्धमान था |30 साल की उम्र में इन्होंने राजपाट त्याग कर सन्यास धारण कर लिया था और अध्यात्म की राह पर चल दिये थे |

महावीर जयंती क्यों मनाई जाती है |Mahavir Jayanti Kya Hai

प्रति वर्ष चैत मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को महावीर जयंती मनाई जाती है |इस दिन जैन धर्म के लोग 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्मोत्सव मानते है |कहा जाता है की भगवान महावीर करीब 599 ईशा पूर्व बिहार के कुंडल पुर के राजा घराने में जन्म लिए थे |

इनका बचपन का नाम वर्धमान था | बचपन से ही वे बड़े निर्भीक थे | इनके माता पिता जैन धर्म के 23वें तीर्थंकर पार्श्वनाथ जो महावीर जो महावीर से 250 वर्ष पूर्व हुए थे |उनके अनुयाई थे |

आठ वर्ष की उम्र से ही इनको पढ़ना, शिक्षा धनुष आदि चलना सीखने के लिए शिल्प शाला में भेजा गया | 28 वर्ष के उम्र में इनके माता पिता का देहांत हो गया |दो वर्ष तक अपने बड़े भाई के साथ घर पर रहे | 30 साल की उम्र में इन्होंने राजपाट त्याग कर सन्यास धरण कर लिया था और अध्यात्म की राह पर चल दिये थे|

जैन धर्म के अनुवाइयों का मानना है की भगवान महावीर 12 वर्ष की कठोर मौन तप के बाद उन्होंने अपनी इंद्रियों पर विजय प्राप्त किया और उन्हें ज्ञान प्राप्त हुआ | सहशीलता निडर और अहिंसक होने के कारण उनका नाम महावीर पड़ा |

भगवान महावीर की 72 साल की उम्र में ईशा पूर्व 527 में पवापुरी जो कि अब बिहार में है |उन्हें कार्तिक कृष्ण अमावस्या को मोक्ष की प्राप्ति हुई |महावीर जयंती के दिन जैन धर्म के लोग प्रभात फेरी अनुष्ठान शोभायात्रा निकालते हैं और फिर महावीर जीके मूर्ति का सोने और चांदी का जलाभिषेक किया जाता हैं |

महावीर जयंती क्यों मनाई जाती है |Mahavir Jayanti Kya Hai

इस दौरान जैन संप्रदाय के गुरु भगवान महावीर के द्वारा दिये गए उपदेश बताते है और उनपर चलने की सीख देते हैं |राज घराने की विलासिता को छोडकर अध्यात्म की राह अपनाने वाले  महावीर स्वामी ने जीवन भर सम्पूर्ण मानव जाति को अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाने का काम किया|

लोगों को अर्ध मागधी भाषा में उपदेश देने लगे |उनका प्रवचन सरल भाषा में होता था |ताकि सभी लोग  उनका उपदेश समझ सकें | भगवान महावीर के  प्रवचनों  में सदैव प्रेम, त्याग, करुणा, शील दया की भावना का जिक्र होता था|

भगवान महावीर ने श्रामण और श्रामणी,श्रावक और श्राविका सबको लेकर चतुर्विध संघ की स्थापना की | देश के भिन्न-भिन्न भागों में घूम-घूम  कर भगवान महावीर ने अपना पवित्र संदेश फैलाया |

महावीर स्वामी ने पाच प्रमुख सिधान्त बताए थे |जिन्हें पंचशील सिधान्त कहा गया |पंचशील सिधान्त के नाम : सत्य ,अहिंसा,चोरी ,अपरिग्रह (यानि विषय व वस्तुओं के प्रति लगाव न होना ),ब्रह्मचर्य का पालन करना |

आपको बतादें कि जो व्यक्ति इन पांचों सिद्धांतों का पालन करता है ,वह मोक्ष को प्राप्त करता है |भगवान महावीर के दिये हुए उपदेशों का पालन करते हुए आज जैन धर्म के  लोग बड़े ही श्रद्धा भाव से पालन करते हैं और भगवान महावीर के  जयंती को धूम धाम से मनाते हैं |

यह भी पढ़ें :

भगवान महावीर की संक्षिप्त जीवनी:Mahavir Jayanti Kya Hai

 

नाम वर्धमान
पिता का नाम सिद्धार्थ
माता का नाम त्रिशला
जन्म दिन चैत मास शुक्ल पक्ष त्रेयोदशी
बड़े भाई का नाम नंदिवर्धन
बहन का नाम सुदर्शना था
जन्म स्थान बिहार के वैशाली गणराजय के कुंडलपुर राजघराना

 

FAQ

Q-भगवान महावीर के माता पिता का क्या नाम था ?

ANS- भगवान महावीर के माता का नाम त्रिशला और पिता का नाम सिधार्थ था |

Q-भारत में महावीर जयंती कैसे मनाई जाती है?

ANS- पूरे भारत देश में जैन समुदाय के लोग संत महावीर के जन्म का सम्मान करते हुए बड़ी श्रद्धा और उल्लासके साथ मनाते हैं। रथ यात्रा नामक जुलूस में भगवान महावीर की मूर्ति को रथ पर ले जाया जाता है। रास्ते में धार्मिक छंदों का पाठ किया जाता है। भगवान महावीर की मूर्तियों का औपचारिक अभिषेक किया जाता है जिसे अभिषेक कहा जाता है।

नोट -यदि हमारा पोस्ट अच्छा लगे तो अपने साथी सांघी के साथ शेर करें |आप सभी से यहीं अपेक्षा है |इस आर्टिकल में महावीर जयंती के बारे में दी गईं सभी जानकरियाँ पत्रिका इंटरनेट मौखिक और कुछ यू ट्यूब से विद्वानों  से संग्रह की गई है |इसकी सत्यता की ज़िम्मेदारी Krishna Official की नहीं है |

 

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

604FansLike
2,458FollowersFollow
133,000SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related Blogs

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Whatsapp Icon