- Advertisement -
HomeBiographyBiography of meera bai chanoo

Biography of meera bai chanoo

- Advertisement -

 Biography of meera bai chanoo|मीरा बाई चानू की जीवनी

जब इंसान हार से चोट खाता है तब उसकी जीत की सफलता को कोई रोक नही सकता | कुछ ऐसे ही हालात से गुजरी हैं हमारी भारत की बेटी और मणिपुर की लाढली मीरा बाई चानू |आइये आपको मीरा बाई चानू के जीवनी से रूबरू कराती हूँ |

जहां भारत के कई राज्यों में आज भी बेटियों को अभिशाप माना जाता है वहीं नौर्थ ईस्ट में बेटियों को हर क्षेत्र में अपना करियर चुनने की आजादी है |आज भारत का मस्तक गर्व से उच्चा करनेवाली मीरा बाई चानू किसी परिचय की मुहताज नहीं हैं | महिलाओं के  वेट लिफ्टिंग समूह में बहुत बड़ा नाम है |

मीरा बाई चानू भारत की महिला खिलाड़ियों में आज एक उत्कृस्ट नाम है | हाल ही में इन्होंने कॉमन वेल्थ गेम में प्रथम स्वर्ण पदक हासिल कर भारत का नाम दुनिया में रौशन किया |आपको जानकार अति प्रसन्नता होगी की इस दौरान मीरा ने 6 लिफ्टिंग में 6 रिकार्ड तोड़कर 48 किलो ग्राम में प्रथम स्थान प्राप्त  किया |इसी सत्र में भारत सरकार ने इन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित  किया है, जो कि एक सर्वश्रेठ सम्मान है | भारत को इनके प्रदर्शन को देखते हुवे  आगे भी कई उम्मीदें है |

Table of contents

1.मीरा बाई चानू जीवनी

1.1 मीरा बाई चानू वर्ल्ड रेकॉर्ड( meera word record)

1. 2 मीरा बाई चानू कोच

1.3मीरा बाई चानू जन्म तिथि ( date of birth )

1.4 मीरा बाई चानू रजत पदक

 

मीरा बाई चानू का जीवन परिजय:

नाम Name साईखोम मीरा बाई चानू
जन्म तिथि Date of birth 08/08/1994
निवास Residence मणिपुर
नागरिकता Nationality  भारतीय
धर्म Religion हिन्दू
पेशा Occupation खिलाड़ी
खेल Game वेट लिफ्टिंग
लंबाई Hight 4फिट 11 इंच
वजन Weight 48केजी
 कूल मैडल total medal 2 गोल्ड 1 सिल्वर
कोच Coach                                        |कुंजरानी देवी

 

मीरा बाई चानू रजत पदक :

आज सम्पूर्ण भारत वासी मीरा बाई चानू के वेट लिफ्टिंग प्रतियोगिता में प्राप्त रजत पदक से गौरवान्वित महसूस कर रहा है |इस जीत से भारत को ओलंपिक में प्रथम पदक हासी हो गया है |

मीरा बाई चानू का डेट ऑफ बर्थ :

मीरा बाई चानू का जन्म भारत देश के मणिपुर राज्य के इम्फाल में हुआ है | इनका जन्म स्थान मणिपुर के पूर्व में स्थित है| इनका जन्म दिनांक 8.8.1994 में हुआ |

मीरा बाई चानू कोच ( Meera bai chanoo Coach)

कुंजरानी देवी मीरा बाई चानू कि कोच हैं| वह भी जानी मानी वेट लिफ्टिंग महिला खिलाड़ी हैं |कुंजरानी देवी भी मणिपुर इम्फाल कि ही निवासी हैं जो इनकी हौसला सामी समय समय पर बढ़ाते रहती हैं |इन्हें कभी भी निराश नहीं होने देती हैं |

मीरा बाई चानू वर्ड रेकार्ड्स(Meera bai chanoo Word Record):

मीरा बाई  एक भारोत्तोलक महिला खिलाड़ी हैं जिन्होंने 24 वर्ष कि उम्र में कई रेकॉर्ड किया है |जिसका विवरण निम्नवत है-

  • मीरा बाई एक भारोत्तोलक महिला खिलाड़ी हैं |इन्होंने 2017 में विश्व स्तरीय आयोजित वेट लिफ्टिंग चैंपियन में हिस्सा लेकर 48 किलोग्राम वर्ग में स्वर्ण पदक हासिल किया था |इतना ही नहीं 2014 में ग्लासो में आयोजित कॉमन वेल्थ गेम में भी 48केजी वर्ग में रजत पदक प्राप्त किया था |
  • 2018 में भी मीरा ने कॉमन वेल्थ गेम में स्वर्ण पदक प्राप्त कर भारत को प्रथम गोल्ड मेडल से गौरवान्वित किया | यह भी 48 किलो ग्राम वेट लिफ्टिंग के ही अंतर्गत था |
  • 2016 में आयोजित रियो ओलंपिक में भी रिया का चयन हुआ था |परंतु दुर्भाग्यवश मीरा के हाथ निराशा ही लगी | कोई मेडल भारत के लिए नहीं ला पाईं|
  •  खिलाड़ी अपने देश में भले ही हजारों बार जीत हासिल कर ले| परंतु विश्व स्तर पर जीत हासिल करने के उनकी  ललक सदा बनी रहती है | 2016 में आयोजित बारहवें साउथ एशियन गेम्स में भी चानू नें गोल्ड मेडल प्राप्त किया|
जब राज्य का नाम नाम रौशन हो तो भला राज्य का राजा क्यों न खुश हो |सम्मान के रूप में इन्हें तत्कालीन मुख्यमंत्री नें 20 लाख रुपए की धन राशि देकर सम्मानित किया थे |

मीरा के अलावा पुरुष वर्ग में भी वेट लिफ्टिंग में आज गुरूरजा ने भी रजत पदक हासिल क्या |

नौर्थ ईस्ट की  बेटियाँ जितनी सुंदर और कोमल दिखती हैं उतनी ही ताकतवर होती हैं| जैसे -मैरी कौम का नाम कौन नहीं जानता|

Peom on Meera bai Chaanoo:

कविता

टूट कर चाँदी सा चमकना ,

ओ आँसू ओ जख्म और ओ जज़्बा |

क्या होता है सीखा गई मीरा बाई चानू ,

तोड़ भ्रम का कब्ज़ा|

 

ओ कहते हैं सफलता का कोई,

शौट कट नहीं होता है |

कड़ी मेहनत से मिलती है कामयाबी,

तब बड़ा फक्र होता है |

 

नज़रें टिकाये थे,

करोड़ों हिंदुस्तानी |

जब भार उठाई ,

ओ मणिपुरी मर्दानी|

 

याद कर वह 2016 को ,

धीरज खो रहे थे |

जब रियो ओलंपिक में चानू के,

प्रयास विफल हुवे थे |

 

रियो ओलंपिक याद कर ,

चानू के नयन भरी आयो |

लाख प्रयास के बाद भी ,

कछु हाथ नहीं आयो |

 

अबकी हार ना मानूँगी माँ,

तेरी लाज बचाउंगी |

निरंतर अभ्यास करूंगी,

मेडल लेकर आऊँगी |

और पढ़े इस लिंक पर क्लिक करके :तीरंदाज दीपिका कुमारी जीवन परिचय /कविता

नोट :आज बेटियाँ च्नांद पर परचम लहरा रहीं हैं | प्लीज़ हमारी नौर्थ ईस्ट के बेटों और बेटियों का उत्पीरण नहीं करें | देश के सभी राज्यों में उत्कृष्ट और सर्वश्रेष्ठ राज्य  नौर्थ ईस्ट में ही है |वहाँ की प्रकर्तिक छटा और सुंदरता को बनाएँ रखें किसी प्रकार से इनको  ह्रास ना करें |

Read more:https://krishnaofficial.co.in/

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

604FansLike
2,458FollowersFollow
133,000SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related Blogs

- Advertisement -